जोड़ो में दर्द के घरेलू वास्तु उपाय | jodo ke dard ke liye vastu in hindi

वास्तु एक साइंस है जो की दिशाओ के साथ साथ कई तरह की ऊर्जा के साथ काम करता है। जब बी इन उर्जाओ में कोई रुकावट आती है तो कई प्रकार की घर में बीमारिया फैलनी शुरू हो जाती है। जैसे की जोड़ों का दर्द, सांस लेने में तकलीफ होना आदि। jodo ke dard ke liye आप घर बैठे वास्तु की मदद से इसका उपचार कर सकते है।

आज हम बात करेंगे हमारे शरीर में जोड़ो में होने वाला अचानक दर्द के वारे में। ऐसे कौन से वास्तु दोष है जिनकी वजह से घुटनो में दर्द होने लगता है। और जानेगे के कैसे वास्तु की मदद से इसे हम इसे ठीक कर सकते है। जब बी घर में वास्तु के पांच तत्व में समान्तरता नहीं होगी तभी कोई न कोई ऐसी बीमारी आपको सताती रहेगी।

जोड़ो में दर्द के घरेलू वास्तु उपाय | jodo ke dard ke liye vastu in hindi

अपने कमरे में किन बातो का ध्यान रखे (jodo ke dard ke liye vastu)

घर का जो मुख्य कमाने वाला सदस्य होता है वास्तु के हिसाब से उसे दक्षिण-पश्चिम दिशा में सोना चाहिए। अगर हम बात करे घुटनो और जोड़ो के दर्द के बारे में तो निचे दिए गए वास्तु tips आप अपने कमरे में अपनाये।

सोने के लिए कौन सी सामग्री का बेड का इस्तेमाल करे (What material bed should be used for sleeping)

कुछ लोग अपने घर में लकड़ के बेड के इस्तेमाल की जगह लोहे का बेड बनबाते है जो आपकी अंदुरनी ऊर्जा को ड्रेन कर देता है। इसके इलावा अगर अपने अपने बेड के निचे या उसके अंदर लोहे के औजार या फिर उससे बने खिलौने अदि रखे हुए है तो तुरंत उसे निकाल दे। क्योकि यह बी एक बहुत बड़ी वजह बनते है जोड़ो के दर्द का।

अपने कमरे में जल तत्व का कम इस्तेमाल करे (Use less water element in your room)

वास्तु के हिसाब से घर का मास्टर बैडरूम दक्षिण-पक्षिम कोने में होना चाहिए अगर वहा पर आपने जल तत्व को भारी मात्रा में रखा है तो यह व् एक कारण बनता है घुटनो में होने वाले दर्द का। इस लिए अगर अपने वहा पर पीने का पानी बी रखा हुआ है तो यह बी आपके लिए ठीक नहीं होगा आप वहा पर अपनी जरूरत के अनुसार ही पीने का पानी रखे।

कुदरत से मिलने वाले फायदे (jodo ke dard ke liye vastu))

कुदरत ने हमे बहुत सी ऐसी सुविधाएं दी हुई है। जिसकी मदद से हम ज़िंदगी में हर मुसीबत से लड़ सकते है। ऐसे ही हम निचे दिए हुए वास्तु उपचार से कुदरत के कुछ तत्व से फायदे ले सकते है।

सुबह की धुप का उपयोग ( Beneficial Morning Sun rays)

जोड़ो के दर्द से बचने के लिए सुबह की धुप सबसे उत्तम मानी जाती है कुदरत ने हमे स्वस्थ रखने के लिए हमे बहुत से उपचार दिए है। उसी में सुबह की धुप आपके लिए एक रामबाण जैसा काम करती है। रोजाना इसे लेने से ज़िंदगी में कभी आपको घुटनो का दर्द और जोड़ो का दर्द कभी नहीं होगा। क्योकि सुबह की धुप से हमे भरपूर विटामिन डी की मात्रा मिलती है। जो हमे स्वस्थ रखने में काफी मददगार साबित होती है।

समुंद्री नमक का उपयोग (Uses of sea salt)

एक और सबसे उत्तम उपाए हमे कुदरत से मिलता है जिसे हम समुंद्री नमक कहते है। जो हमे छोटी छोटी डलिओ के रूप में मिलता है। इसे आप अपने बेड के आस पास रखते है तो यह नकरात्मक ऊर्जा को खीचता है और आपको तन्दरुस्त रखता है जिन लोगो के अक्सर घुटनो में दर्द रहता है वो सोते समे अपने पैरो की तरफ समुंद्री नमक को रखे। इससे आपको काफी रहत मिलेगी।

ध्यान रखे यह नमक हर 7 दिनों में बदला जाना चाहिए और पुराना नमक पानी में बहा देना चाहिए। भूल कर बी उस उपयोग किये हुए नमक को जमीन में न फेके क्योकि नमक पर पैर रखना अशुभ मन जाता है।

शमा तुलसी का उपयोग (Uses of Shama Tulsi)

इसके इलावा आप घर में काली तुलसी को लगाए जिसे हम शामा तुलसी कहते है वैसे तो आप तुलसी घर में किसी बी दिशा में लगा सकते हो पर इससे उतर या पूरब दिशा में लगाना सबसे उत्तम मन जाता है। आप काली तुलसी का सेवन जरूर करे इससे आपके जोड़ो के दर्द को काफी रहत मिलेगी।

Suggested Read:- Gaumukhi or SherMukhi plots (full explanations)

घर में दरवाजे और खिडकियो को धुप और हवा के लिए खुला छोड़े 

अगर आपके घर का मुख्य द्वार उतर दिशा में है तो वहा पर धुप का आना असंभव होता है जिस वजह से इस दिशा में फंगस या सीलन जैसे स्थिति पैदा हो जाती है क्योकि उतर दिशा में जल तत्व पाया जाता है जिससे घर में एक ठंडक सा महौल बना रहता है। जिस वजह से अक्सर घुटनो में दर्द होने की शिकायत रहती है। इसे ठीक करने के लिए अगनी तत्व को उतर दिशा में बैलेंस रखना बहुत जरूरी है तो अगर आपके घर में दक्षिण दिशा में जो खिड़किया या दरवाजे हो तो उसे खोल कर धूप और हवा से उस जगह को जरूर संपर्क में लाये

वास्तु पुरष के अंगो के स्थानों की सफाई (jodo ke dard ke liye vastu)

अगर आपके घर में कोई घुटने के दर्द की परेशानी से गुजर रहा है तो आगे बताये जाना वाला दोष को समझना बहुत ही जरूरी है हमारे घर के हर भाग में वास्तु पुरुष का अंश होता है जैसे की उतर-पूरब दिशा में वास्तु पुरष का सर आता है और दक्षिण -पक्षिम में उनके पैर आते है। इसी तरह पूरब- दक्षिण की दिशा में उनका एक घुटना आता है और पक्षिम उतर के कोने में दूसरा घुटना आता है यह निश्चिन्त है अगर इन दोनों दिशा में अगर आपने कचरें का स्थान बना रखा है तो घर में रहने वाले सदसयो को घुटनो से होने वाली परेशानी का सामना करना ही पड़ेगा। जैसे की कोई पुराना फर्नीचर , टुटा हुआ सामान आदि।

वैसे तो जोड़ो में दर्द होने की बहुत सी वजह हो सकती है और उनके बहुत से उपचार बी आपको मिल जाएगे। जिनमे वास्तु शास्त्र बी एक अपना किरदार निबाहता है। अगर आप वास्तु के इन बताये गए उपायों को अपनी ज़िंदगी में इस्तेमाल करोगे तो आप बेशक इसका लाभ पाएंगे।

Read Also:-

Vastu for Good Health 2021

Vastu remedies for Toilet in North-East direction

How to increase positive vibration at home

Sharing Is Caring:

Greetings of the Day. This is Honey. I am providing my Services in the Subject of Architecture, Vastu Shastra, Civil Engineering, and Interior Designer. I hope you like my content and please share it with your near and dears. If you have any queries you can contact me on the contact us page.

2 thoughts on “जोड़ो में दर्द के घरेलू वास्तु उपाय | jodo ke dard ke liye vastu in hindi”

Leave a Comment

Copyright © 2021 CodingIX